KurukhTimes.com

Write Up

आलेख / Articles

कुँड़ुख पेंटिंग को नवजीवन देती - कलाकार सुमन्ती उराँव

यूँ कलाकार और कला की कोई सीमा नहीं। लेकिन जब कोई कलाकार लगभग लुप्त हो गई किसी कला को पुनर्जीवित कर देता कलाकार समाज और कला जगत के लिए विशिष्ट हो जाता है। ऐसी ही एक कलाकार है सुमन्ती देव भगत, जो भोपाल में रहती हैं। सुमन्ती ने अपनी वेश-भूषा तक को उराँव संस्कृति के अनुकूल इस तरह ढाल लिया है कि आप दूर से देखकर बता सकते हैं कि वह कोई उराँव युवती ही हो सकती है। पढ़िया की मोटी सफेद, लाल पाड़ की साड़ी पहने, उराँव विधि से खोपा बनाए और उस पर बगुले के पंखों बनी टइंया को खोसे हुए। गले पर चमकता खंभिया और कानों पर लम्बे वीडियो। ऐसी कुँड़ुख बेश-भूषा में अब तो शायद ही कोई दिखता है। इतना तक कि गाँवों में भी

भाषा, मानव विकास के लिए अनमोल रत्न   

ईशा से हजारों सालों पूर्व में भी मानव सभ्यता थी और र्इसा के बाद 2018 र्इ के बीत जाने के बाद भी मानव समुदाय और समाज का विकास के बीच एक अत्यन्त ही गम्भीर और ज्वलंत भय सा बना हुआ है। पूरी दुनियाँ विकास की बात से जुड़ी हुर्इ हैं। कर्इ देा विकसित हो गए है और अनेकों देा विकास के लिए प्रयत्नाील है।

आदिवासी जीवन-दर्शन और कुड़ुख़ भाषा की तोलोंग लिपि

झारखण्ड अलग प्रांत आन्दोलन के दौरान हम छात्र नेताओं के जेहन में हमेाा ही एक प्रन उठता था - क्या, नये राज्य में हम अपनी भाशा-संस्कृति को सुरक्षित रख पाएंगे ? इसके लिए क्या-क्या कदम उठाने होंगे ?

कुंड़ुख़ भाषा में मुहावरा एवं कहावत का प्रयोग

कुंड़ुख़ भाषा में मुहावरा एवं कहावत का प्रयोग बखुबी होता है। कई असहज बातों को इससे आसानी से समझा जाता है। आइये इसे जाने :
bai qurrA (muhAvarA )
¡.  adde e:rnA ( KiEsA:rnA ) - As eXgan adde e:rwas.
¢.  aXli e:wnA ( WirAbaHnA ) - kalA boXgA, eXgan WirAbaHA polloy.
£.  akil barnA ( lu:r kunwurnA ) - konwas we innA akil barcA. 
¤.  akil ebsernA ( buJurLA polnA ) - qambas hi kerkA mo:xA As hi 
   akil ebesrA.
¥.  allA ujjnA ( ajju-ijju onA-mo:xA ge kuwwnA ) - Wucas gA allA  

संस्कृति को बचाने के लिए ज़रूरी है भाषा को बचाना - जसिंता केरकेट्टा

किसी भी समाज की संस्कृति के बचे रहने के लिए उसकी अपनी भाषा का बचा होना ज़रूरी है। भाषा के बिना कैसे अपनी संस्कृति को बचाने की बात हो सकती है? भाषा अपनी संस्कृति को अभिव्यक्त करने का माध्यम तो होती ही है, वह एक शक्तिशाली सांस्कृतिक हथियार भी होती है।
किसी समाज को ख़त्म करना हो तो उससे, उसकी भाषा छीन लीजिए। वह अपने आप खत्म हो जाएगा। यह बात हमेशा वर्चस्ववादी समाज द्वारा कही जाती रही है। इसी तरीके से आदिवासियों को ख़त्म करने के लिए निरंतर प्रयास होते रहे हैं और आज भी हो रहे हैं।

नयी शिक्षा नीति और मातृभाषाएं

महात्मा गांधी ने 20 अक्टूबर, 1917 को गुजरात के भड़ौच में एक शिक्षा सम्मेलन में कहा था - "विदेशी भाषा द्वारा शिक्षा पाने में दिमाग पर जो बोझ पड़ता है, वह असह्य है। यह बोझ हमारे बच्चे उठा तो सकते हैं, लेकिन उसकी कीमत हमें चुकानी पड़ती है, वे दूसरा बोझ उठाने लायक नहीं रह जाते हैं। इससे हमारे स्नातक अधिकतर निकम्मे, कमजोर, निरुत्साही, रोगी और कोरे नकलची बन जाते हैं। इससे हम नयी योजनाएं नहीं बना सकते हैं और यदि बनाते हैं, तो उन्हें पूरा नहीं कर पाते हैं।" आजादी के बाद तैयार की गयी तीनों शिक्षा नीतियों में इस बात को ध्यान में रखते हुए मातृभाषा में शिक्षा प्रदान करने की नीतियां बनायी गयी हैं। प्रथम दो

सकलराम तिरकी को बंगाल कैसे मिला 1500 एकड़ का खतियानी जमींदारी?

वर्तमान लोहरदगा जिला‚ कुड़ू थाना क्षेत्र के जिंगरी जोंजरो गांव के रहने वाला सकलराम तिरकी‚ एक उरांव परिवार में जन्मा् एवं पला–बढ़ा तथा एक मजदूर किसान का बेटा को जब अपने गांव–परिवार की गरीबी में अपने गांव से दूर जाने के लिए विवस होना पड़ा तो वह रास्ता  ढूँढ़ते हुए बंगाल के पहाड़ी क्षेत्र अर्थात वर्तमान दार्जिलिंग के तराई में मजदूर बनकर पहूँचा। ब्रिटिश भारत में 1840 से 1850 के दौर में बंगाल एवं असम में चाय की खेती के लिए रांची– लोहरदगा आदि जगहों से हजारों की संख्याग में मजदूरों को ले जाया गया। यह सिलसिला कमोवेश चलता रहा और 1890 में कुछ अधिक तेजी आयी। स्वच० सकलराम तिरकी के तीसरी पीढ़ी के वंशज बतला

तोलोंग सिकि (लिपि) का आधार

तोलोंग सिकि एक वर्णात्मक लिपि है। इसमें‚ उच्चारण के अनुसार लिखा एवं पढ़ा जाता है। इसमें हलन्त का प्रयोग नहीं होता है। इस लिपि को कुँड़ुख़ भाषियों ने कुँड़ुख़ भाषा की लिपि की सामाजिक स्वीकृति प्रदान की है तथा झारखण्ड सरकार द्वारा कुँड़ुख़ भाषा की लिपि की वैधानिक मान्यता देकर विद्यालयों में पठन-पाठन का अवसर प्रदान किया गया है। कुँड़ुख़ भाषा को योगात्मक भाषा कहा गया है। बोलचाल में‚ योगात्मक तरीके से खण्ड-ब-खण्ड उच्चारित किया जाता है। इस लिपि के अधिकतर वर्ण वर्तमान घड़ी के विपरीत दिशा (Anti clockwise direction) में व्यवस्थित है। इस लिपि का आधार पूर्वजों द्वारा स्थापित प्रकृतिवादी सिद्धांत है। हवा का

सैन्दां धुमकु‍ड़ि‍या में कुड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि

धुमकु‍ड़ि‍या सैन्दां, सिसई, गुमला में बच्चों को कुड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि सिखलाते हुए शिक्षक एवं छात्रगण धुमकु‍ड़ि‍या सैन्दां, सिसई, गुमला में बच्चों को कुड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि सिखलाते हुए शिक्षक एवं छात्रगण धुमकु‍ड़ि‍या सैन्दां, सिसई, गुमला में बच्चों को कुड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि सिखलाते हुए शिक्षक एवं छात्रगण धुमकु‍ड़ि‍या सैन्दां, सिसई, गुमला में बच्चों को कुड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि सिखलाते हुए शिक्षक एवं छात्रगण

संचु ख़ेस्स रचित पांच कुँड़ुख़ कविताएँ

श्री संचु ख़ेस्स द्वारा रचित पांच कुँड़ुख़ कविताएँ‚ तोलोंग सिकि एवं देवनागरी में (फोटो में‚ कविता पाठ करते हुए श्री संच्‍चु ख़ेस्‍स) say sancu xes, bAlurGAt, wakCiN winAjpur (pafbaMgAl) hi tu:zkA paMce kaqQdaN|di Gi qoloX siki arA wevnAgri nu qarjumA श्री संचु ख़ेस्स द्वारा रचित पांच कुँड़ुख़ कविताएँ‚ तोलोंग सिकि एवं देवनागरी में (फोटो में‚ कविता पाठ करते हुए श्री संच्‍चु ख़ेस्‍स) say sancu xes, bAlurGAt, wakCiN winAjpur (pafbaMgAl) hi tu:zkA paMce kaqQdaN|di Gi qoloX siki arA wevnAgri nu qarjumA